healthcare

கொரோனாவினால் மருத்துவவசதி கூட நாட இயலாத இந்திய கிராமப்புற பகுதி மக்கள் சந்திக்கும் தனித்துவமான இன்னல்கள், மற்றும் இதனைத் தீர்க்க உதவும் சில வழிகளைப் பற்றி வன்ஷிகா சிங்க், பொது சுகாதார ஆராய்ச்சியாளர் யோகேஸ்வர் கல்கொண்டே-வை பேட்டி கண்டார். தமிழில் மொழிபெயர்ப்பு: ரோகிணி முருகன்
 
वंशिका सिंग यांच्याबरोबर झालेल्या चर्चेत सार्वजनिक आरोग्यसेवा क्षेत्रातील संशोधक योगेश्वर काळकोंडे यांनी कोविड-19 महामारीमुळे आरोग्यसेवेच्या सुविधांपासून सहसा वंचित असलेल्या ग्रामीण भारतातील जनतेला कोणत्या आव्हानांचा सामना करावा लागतो आहे, याबाबत माहिती दिलेली आहे.
 
In this Q&A with Vanshika Singh, public health researcher Yogeshwar Kalkonde takes us through the challenges posed by the COVID-19 pandemic for those at the fringes of healthcare ‒ the rural Indian population.
 
Going to a hospital can be stressful for patients during the COVID-19 pandemic, especially for those in high-risk groups. Fortunately, hospitals are increasingly embracing telemedicine as a convenient alternative. New guidelines have also been outlined to encourage this practice amidst the crisis. Cancer patients require special consideration during the COVID-19 pandemic, and telemedicine can safely attend to many of their daily needs, enable independence, and improve the overall quality of life.